January 16, 2015

#FictionalLetter: Kya Tumhe Yaad Hai Priyamwada?

Priy Priyamwada,

Tumhe yaad hai.ek dafa June ki pehli-pehli baarisho ki ladiyon mein bheege the tum aur mai saath-saath?


Jaane kitne baras guzar gaye, par aaj bhi uss sneha bhare chhan ki yaad aate hi sondhi-sondhi khusboo se mann anukampit hoo uthta hai mera..

Aaj bhi jab kabhi bekhauf baarisho ki boonde Priyamwada tumhe chhune ki gustaki karti hogi, toh kya tumhe bhi mehsoos hoti hai prem ke pehle sparsh ki woh amulya anubhuti?..

-K Himaanshu Shukla..

प्रिय  प्रियंवदा,

तुम्हे याद है.एक दफ़ा जून की पहली-पहली बारीशो की लड़ियों में भीगे थे तुम और मैं साथ-साथ?

जाने कितने बरस गुज़र गये, पर आज भी उस स्नेहा भरे छण की याद आते ही सोंधी-सोंधी खुश्बू से मन अनुकंपित हो उठता है मेरा..

आज भी जब कभी बेखौफ़ बारीशो की बूंदे प्रियंवदा तुम्हे छूने की गुस्तकी करती होगी, तो क्या तुम्हे भी महसूस होती है प्रेम के पहले स्पर्श की वो अमूल्या अनुभूति?



Copyright © 2015 - ScrutinyByKHimaanshu

1 comment:

Anonymous said...

awww chooo cute ya

Post a Comment

RSSChomp Blog Directory