April 13, 2015

सुभद्राकुमारी चौहान: जलियाँवाला बाग में बसंत (Subhadra Kumari Chauhan's Jallianwala Bagh Mein Basant)

Subhadra Kumari Chauhan (16 August1904–15 February 1948), who was born in Nihalpur village in Allahabad District in Uttar Pradesh wrote this heart wrenching kavita on brutal massacre in Jallianwala Bagh.

हाँ कोकिला नहीं, काग हैं, शोर मचाते,
काले काले कीट, भ्रमर का भ्रम उपजाते।

कलियाँ भी अधखिली, मिली हैं कंटक-कुल से,
वे पौधे, व पुष्प शुष्क हैं अथवा झुलसे।

परिमल-हीन पराग दाग सा बना पड़ा है,
हा! यह प्यारा बाग खून से सना पड़ा है।

ओ, प्रिय ऋतुराज! किन्तु धीरे से आना,
यह है शोक-स्थान यहाँ मत शोर मचाना।

वायु चले, पर मंद चाल से उसे चलाना,
दुःख की आहें संग उड़ा कर मत ले जाना।

कोकिल गावें, किन्तु राग रोने का गावें,
भ्रमर करें गुंजार कष्ट की कथा सुनावें।

लाना संग में पुष्प, न हों वे अधिक सजीले,
तो सुगंध भी मंद, ओस से कुछ कुछ गीले।

किन्तु न तुम उपहार भाव आ कर दिखलाना,
स्मृति में पूजा हेतु यहाँ थोड़े बिखराना।

कोमल बालक मरे यहाँ गोली खा कर,
कलियाँ उनके लिये गिराना थोड़ी ला कर।

आशाओं से भरे हृदय भी छिन्न हुए हैं,
अपने प्रिय परिवार देश से भिन्न हुए हैं।

कुछ कलियाँ अधखिली यहाँ इसलिए चढ़ाना,
कर के उनकी याद अश्रु के ओस बहाना।

तड़प तड़प कर वृद्ध मरे हैं गोली खा कर,
शुष्क पुष्प कुछ वहाँ गिरा देना तुम जा कर।

यह सब करना, किन्तु यहाँ मत शोर मचाना,
यह है शोक-स्थान बहुत धीरे से आना।


Yahan kokila nahi, kag hain, shor machate,
Kale kale keet, bhramar ka bhram upajate.

Kaliyan bhi adhakhili, mili hain kntak-kul se,
Ve paudhe, ve pushp shushk hain athava jhulase.

Parimal-hin parag dag sa bana pada hai,
Ha! yah pyara bag khoon se sana pada hai.

O, priy rituraj! kintu dhire se aana,
Yeh hai shok-sthan yahan mat shor machana.

Vayu chale, par mand chaal se usse chalana,
Dukh ki ahen sang udaa kar mat le jana.

Kokil gaven, kintu rag rone ka gaven,
Bhramar karen gunjar, kasht ki katha sunaven.

Lana sang mein pushp, na hon ve adhik sajile,
Toh sugndh bhi mand, oss se kuchh kuchh gile.

Kintu na tum upahar bhav aa kar dikhalana,
Smriti mein pooja hetu yahan thode bikharana.

Komal balak mare yahan goli khaa kar,
Kaliyan unke liye giraana thodi la kar.

Aashaon se bhare hriday bhi chhinn hue hain,
Apane priy parivar desh se bhinn hue hain.

Kuchh kaliyan adhakhili yahan issliye chadhana,
Kar ke unki yaad ashru ke oss bahaana.

Tadap tadap kar vriddh mare hain goli kha kar,
Shushk pushp kuchh vahan gira dena tum ja kar.

Yeh sab karana, kintu yahan mat shor machana,
Yeh hai shok-sthan bahut dhire se aana. 

No comments:

Post a Comment

RSSChomp Blog Directory