January 10, 2014

Krishna Ki Chetavani by Ramdhari Singh Dinkar

Varshon tak van mei ghum ghum..
baadha vighno ko chum chum..
seh dhoop dhaam paani patthar..
pandav aaye kuch aur nikhar..

Saubhagya na sab din sota hai..
dekhein aage kya hota hai..

Maitri ki raah bataane ko..
sabko sumarg pe laane ko..
Duryodhan ko samjhaane ko..
bheeshan vidhvasth bachaane ko..
Bhagwaan Hastinapur aaye..
Pandav ka sandesa laaye..

Do nyay agar toh aadha do..
yadi iss mei bhi koi baadha hoo..
toh de do keval paanch gram..
rakho apni dharti tamaam..
hum vahi khushi se khaayeinge
parijan par asi (weapon) na uthaayenge..

Duryodhan veh bhi de na saka..
aashish samaajh ki le na saka..
ulte Hari ko baandhne chala..
jo tha asaadhya saadhne chala..
jab naash manuj pe chaata hai...
pehle vivek mar jaata hai..

Hari ne bheeshan hunkaar kiya..
apna svaroop vistaar kiya..
dagmag dagmag diggaj dole..
bhagwaan kupit ho kar bole...

Janjeer badha ab saadh mujhe..
haan haan Duryodhan baandh mujhe..

Yeh dekh gagan mujhme lay hai..
Yeh dekh pawan mujhme lay hai..
Mujhme veelen jhankaar sakal..
Mujhme lay hai sansaar sakal..

Amaratva phoolta hai mujh mein..
Sanhaar jhoolta hai mujh mein..

Udayachal mere dipt bhaal..
Bhu-mandal vaksh-sthal vishaal..
Bhuj paridhi bandh ke ghere hain..
Mainaak meru pag mere hain..

Dipte jo grah nakshatra nikar..
Sab hain mere mukh ke andar..

Drig ho to drishya akaand dekh..
Mujhme saara brahmaand dekh..
Char-achar jeev, jag kshar akshar..
Nashwar manushya, surjati amar..

Shat koti surya, shat koti chandra..
Shat koti sarit shat sindhu mandra..

Shat koti brahma vishnu mahesh..
Shat koti jalpati jishnu dhanesh..
Shat koti rudra, shat koti kaal..
Shat koti dand dhar lokpaal..

Janjeer badhaa kar saadh inhe..
Haan haan duryodhan baandh inhe..

Bhutal atal paatal dekh..
Gat aur anagat kaal dekh..
Yeh dekh jagat ka aadi srijan..
Yeh dekh mahabhaarat ka rann..

Mritako se pati hui bhu hai..
Pahchaan kahan isme tu hai?

Ambar ka kuntal jaal dekh..
Pad ke niche paatal dekh..
Mutthi mein tino kaal dekh..
Mera swaroop vikraal dekh..

Sab janm mujhi se paate hain..
Phir laut mujhi mein aate hain..

Jihwa se kadhti jwaal saghan..
Saanso se paata janm pawan..
Pad jati meri drishti jidhar..
Hansne lagti hai srishti udhar..

Mein jabhi moondta hoon lochan..
Chha jata charo ore maran..

Baandhne mujhe to aaya hai..
Janjeer badi kya laaya hai?..

Yadi mujhe baandhna chahe mann
Pehle tu baandh anant gagan

Sune ko saadh na sakta hai
Woh mujhe baandh kab sakta hai?

Heet vachan nahi tune maana..
maitri ka mulya na pehchaana..
toh le mai bhi ab jaata hun..
antim sankalp sunaata hun..

Yaachana nahi ab rann hoga..
jeevan jay ya ki maran hoga..
takraaenge nakshatra nikar..
barsegi bhu par vehni prakhar..

Fan Sheshnaag ka dolega..
vikraal kaal muh kholega..
duryodhan ran aisa hoga..
phir kabhi nahi jaisa hoga..

Bhai par bhai tootege...
vishbaan boond se chootenge..
vayas shrigal sukh lootenge..
sab naash manuj ke phootenge..

Thi sabha sann sab log dare..
chup thhe ya thhe behosh khade..
keval do nar na aghaate they..
Dhritarashtra Vidhur sukh paate they..
kar jod khade pramudit nirbhay
dono pukaarte the jai jai...


र्षों तक वन में घूम-घूम,
बाधा-विघ्नों को चूम-चूम,
सह धूप-घाम, पानी-पत्थर,
पांडव आये कुछ और निखर।
सौभाग्य न सब दिन सोता है,
देखें, आगे क्या होता है।

मैत्री की राह बताने को,
सबको सुमार्ग पर लाने को,
दुर्योधन को समझाने को,
भीषण विध्वंस बचाने को,
भगवान् हस्तिनापुर आये,
पांडव का संदेशा लाये।

‘दो न्याय अगर तो आधा दो,
पर, इसमें भी यदि बाधा हो,
तो दे दो केवल पाँच ग्राम,
रक्खो अपनी धरती तमाम।
हम वहीं खुशी से खायेंगे,
परिजन पर असि न उठायेंगे!

दुर्योधन वह भी दे ना सका,
आशीष समाज की ले न सका,
उलटे, हरि को बाँधने चला,
जो था असाध्य, साधने चला।
जब नाश मनुज पर छाता है,
पहले विवेक मर जाता है।

हरि ने भीषण हुंकार किया,
अपना स्वरूप-विस्तार किया,
डगमग-डगमग दिग्गज डोले,
भगवान् कुपित होकर बोले-
‘जंजीर बढ़ा कर साध मुझे,
हाँ, हाँ दुर्योधन! बाँध मुझे।

यह देख, गगन मुझमें लय है,
यह देख, पवन मुझमें लय है,
मुझमें विलीन झंकार सकल,
मुझमें लय है संसार सकल।
अमरत्व फूलता है मुझमें,
संहार झूलता है मुझमें।

‘उदयाचल मेरा दीप्त भाल,
भूमंडल वक्षस्थल विशाल,
भुज परिधि-बन्ध को घेरे हैं,
मैनाक-मेरु पग मेरे हैं।
दिपते जो ग्रह नक्षत्र निकर,
सब हैं मेरे मुख के अन्दर।

‘दृग हों तो दृश्य अकाण्ड देख,
मुझमें सारा ब्रह्माण्ड देख,
चर-अचर जीव, जग, क्षर-अक्षर,
नश्वर मनुष्य सुरजाति अमर।
शत कोटि सूर्य, शत कोटि चन्द्र,
शत कोटि सरित, सर, सिन्धु मन्द्र।

‘शत कोटि विष्णु, ब्रह्मा, महेश,
शत कोटि विष्णु जलपति, धनेश,
शत कोटि रुद्र, शत कोटि काल,
शत कोटि दण्डधर लोकपाल।
जञ्जीर बढ़ाकर साध इन्हें,
हाँ-हाँ दुर्योधन! बाँध इन्हें।

‘भूलोक, अतल, पाताल देख,
गत और अनागत काल देख,
यह देख जगत का आदि-सृजन,
यह देख, महाभारत का रण,
मृतकों से पटी हुई भू है,
पहचान, इसमें कहाँ तू है।

‘अम्बर में कुन्तल-जाल देख,
पद के नीचे पाताल देख,
मुट्ठी में तीनों काल देख,
मेरा स्वरूप विकराल देख।
सब जन्म मुझी से पाते हैं,
फिर लौट मुझी में आते हैं।

‘जिह्वा से कढ़ती ज्वाल सघन,
साँसों में पाता जन्म पवन,
पड़ जाती मेरी दृष्टि जिधर,
हँसने लगती है सृष्टि उधर!
मैं जभी मूँदता हूँ लोचन,
छा जाता चारों ओर मरण।

‘बाँधने मुझे तो आया है,
जंजीर बड़ी क्या लाया है?
यदि मुझे बाँधना चाहे मन,
पहले तो बाँध अनन्त गगन।
सूने को साध न सकता है,
वह मुझे बाँध कब सकता है?

‘हित-वचन नहीं तूने माना,
मैत्री का मूल्य न पहचाना,
तो ले, मैं भी अब जाता हूँ,
अन्तिम संकल्प सुनाता हूँ।
याचना नहीं, अब रण होगा,
जीवन-जय या कि मरण होगा।

‘टकरायेंगे नक्षत्र-निकर,
बरसेगी भू पर वह्नि प्रखर,
फण शेषनाग का डोलेगा,
विकराल काल मुँह खोलेगा।
दुर्योधन! रण ऐसा होगा।
फिर कभी नहीं जैसा होगा।

‘भाई पर भाई टूटेंगे,
विष-बाण बूँद-से छूटेंगे,
वायस-श्रृगाल सुख लूटेंगे,
सौभाग्य मनुज के फूटेंगे।
आखिर तू भूशायी होगा,
हिंसा का पर, दायी होगा।’

थी सभा सन्न, सब लोग डरे,
चुप थे या थे बेहोश पड़े।
केवल दो नर ना अघाते थे,
धृतराष्ट्र-विदुर सुख पाते थे।
कर जोड़ खड़े प्रमुदित,
निर्भय, दोनों पुकारते थे ‘जय-जय’! 

No comments:

Post a Comment

RSSChomp Blog Directory