January 11, 2019

#Ramayan: Lyrics and Translation of नवधा भक्ति/ Navdha Bhakti

Lord Ram explained, the nine types of devotion/ penance in form of Navdha Bhakti to Param Tapasvini Shabri.
श्रीरामचरितमानस से अवधी भाषा में नवधा भक्ति..

नवधा भगति कहउं तोहि पाहीं। सावधान सुनु धरु मन माहीं॥

प्रथम भगति संतन्ह कर संगा।
दुसरि रति मम कथा प्रसंगा॥
गुरु पद पंकज सेवा तीसरि भगति अमान।
चौथि भगति मम गुन गन करइ कपट तजि गान॥
मंत्र जाप मम दृढ़ बिस्वासा। पंचम भजन सो बेद प्रकासा॥
छठ दम सील बिरति बहु करमा। निरत निरंतर सज्जन धरमा॥
सातवँ सम मोहि मय जग देखा। मोतें संत अधिक करि लेखा॥
आठवँ जथालाभ संतोषा। सपनेहुं नहिं देखइ परदोषा॥
नवम सरल सब सन छलहीना। मम भरोस हिय हरष न दीना॥

नव महुं एकउ जिन्ह कें होई। नारि पुरूष सचराचर कोई॥
सोइ अतिसय प्रिय भामिनी मोरें। सकल प्रकार भगति दृढ़ तोरें॥



English Translation of Navdha Bhakti from Sri Ramcharitmanas..

The first step to devotion (Bhakti) is to keep the company of the saints (Satsang).
The second step is to enjoy listening to legends/discourses pertaining to the Lord.
Selfless service to the Guru's lotus feet without any pride is the third step.
The fourth step is to earnestly sing praises of the Lord's virtues with a heart clear of guile, deceit or hypocrisy.
Chanting my Name with steadfast faith is the fifth step as the Vedas reveal.
The sixth, is to practice self-control, good character, detachment from manifold activities and always follow the duties as good religious person.
The seventh step is to perceive the world as God Himself and regard the saints higher than the Lord.
The eighth, is a state (which one arrives at when one travels the first seven steps) where there is no desire left, but the gift of perfect peace and contentment with whatever one has. (In this state) one does not see fault in others, even in a dream.
In this state, one has full faith in the Lord, and becomes (childlike) simple with no hypocrisy or deceit. The devotee has strong faith in the Lord with neither exaltation or depression in any life circumstance (but becomes calm and composed).

Shri Ram adds that Shabri’s Bhakti is perfect. Yet if anyone were to have taken even one step towards devotion, out of all nine, she/he would be very dear to the Lord.

Hindi Translation of Navdha Bhakti from Sri Ramcharitmanas..

श्री राम जी कहते है शबरी से कि अब मैं तुम्हे नवधा भक्ति की जो ज्ञान है उसे सुनाने जा रहा हूँ। तुम उसे बड़े ध्यान से सुनो।

पहला भक्ति यही कहलाती है कि संतो कि संगत करनी चाहिए।
दूसरी भक्ति है कि मेरे कथाओं और भजन में मग्न रहना और उसी में लीन हो जाना।
बिना किसी बात के गर्व करते हुए अपने गुरु कि निरन्तर सेवा करना तीसरी भक्ति है।
चौथी भक्ति में वह माना जाएगा जो छल-कपट रहित होकर श्रद्धा प्रेम व लगन के साथ प्रभु नाम सुमिरन करता है।
अपने ह्रदय में विश्वास के साथ मेरे नाम का निरतर जाप करना वेदो के अनुसार पांचवी भक्ति है।
छठवीं भक्ति है, जो शीलवान पुरुष अपने ज्ञान और कर्मेन्द्रियों पर नियंत्रण रखते हुए भगवद् सुमिरन करते हैं।
सातवीं भक्ति है कि पूरी दुनिया को भगवान् के रूप में देखना चाहिए और संत जनो को भगवन से ऊपर का पद देना चाहिए।
आठवीं भक्ति है कि जिन मिले उतना में ही संतुष्ट हो जाना। सभी इक्छा का कामना छोड़ कर सपने में भी किसी का बुरा मत सोचना।
नवम भक्ति है कि एक छोटे बच्चे कि तरह बन कर अपने आप को पूरी तरह भगवन को सौप दे और अपना हर कार्य और जीवन चलने का बिनती भगवन से करे। जब पूरे जगत के रचेता तुम्हारा जीवन चलाएंगे तो भला कोई बुरा जीवन में कभी आ सकता है?

श्री रामचन्द्र जी महतपस्विनि माता शबरी से कहते है कि इन भक्तियो में से एक भी किसी के पास हो तोह वह प्राणी मुझे बहोत प्रिये है और तुझ में तोह यह सभी भक्ति है। तुम धन्य हो माता तुम धन्य हो।

-K Himaanshu Shuklaa..

No comments:

Post a Comment

RSSChomp Blog Directory